इस खिलाडी ने कहा- टीम इंडिया को ‘धोनी’ की अब जरुरत नहीं

इंडिया नेशनल क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने क्रिकेट में कई रिकॉर्ड बनाए हैं और भरत को न जाने कितने ही मैच जिताकर अनेकों ट्रॉफी दिलाई हैं। आज भी बड़े बड़े दिग्गज क्रिकेटर इस महान खिलाड़ी की तारीफ करते नहीं थकते। पूरा विश्व एम एस धोनी को ना सिर्फ एक धाकड़ बल्लेबाज बल्कि एक होनहार विकेटकीपर और एक सफल कप्तान भी मानता है। एम एस धोनी की खासियत है की वे अपनी टीम इंडिया के सभी खिलाडियों को बड़े अच्छे से समझते हैं और सभी को खेलने का पर्याप्त मौका देते हैं। वे सभी खिलाडियों को बढ़ावा देते हैं यही वजह है की खिलाड़ी इस उदार बल्लेबाज की तारीफ करते नहीं थकते।

यूँ तो महेंद्र सिंह धोनी जब तक कप्तान थे सभी खिलाड़ी उनके समर्थन में खड़े थे। लेकिन बता दें की जब से धोनी ने कप्तानी छोड़ी है उनकी मुश्किलें थोड़ी बढ़ गयीं हैं। जी हाँ बता दें की एम एस धोनी के खिलाफ कुछ लोग तरह तरह की बातें कर रहे हैं। जिसमे से की इंडिया नेशनल क्रिकेट टीम के एक खिलाड़ी ने तो बड़ा बयान दे डाला। दरअसल हम बात कर रहे हैं भारतीय क्रिकेटर अजीत अगरकर की जिन्होंने बड़ा बयान देते हुए कहा की भारतीय क्रिकेट टीम को अब शॉर्ट फॉर्मेट वाले मैच जैसे की टी20 में महेंद्र सिंह धोनी की जरुरत नहीं है।

 

 

अजीत अगरकर का मानना है की बीसीसीआई को टी20 में महेंद्र सिंह धोनी के पिछले मैचों के प्रदर्शन को देखना चाहिए और दूसरे टी20 में बीसीसीआई को टीम में बदलाव करने के बारे में सोचना चाहिए। अजीत का कहना है की एम एस धोनी में अब वो बात नहीं रही जो पहेली थी। वे अब उतनी आक्रामकता से नहीं खेलते जितना पहले खेला करते थे। अजीत का कहना है की धोनी पारी को संभालने के बाद ही जरूरत के हिसाब से बड़े शॉट खेलते हैं। जबकि टी20 जैसे छोटे फॉर्मेट के मैचों में गेंदों की कमी के कारण पिच पर उतारते ही अपनी बल्लेबाजी का कमाल दिखाना होता है।

 

 

अजीत ने बीसीसीआई को इंडिया-न्यूजीलैंड टी20 का मैच याद दिलाया और कहा की इस श्रृंखला के इस दूसरे मैच में जब महेंद्र सिंह धोनी बल्लेबाजी करने उतरे तब भारत के 9.1 ओवर में 67 रन थे, 4 विकेट के नुकसान पर। टारगेट बड़ा था पर कोहली पूरे जी जान से खेल रहे थे और लगातार छक्के चौके मार कर मैच में जीतने की उम्मीद बनाये रखे थे। लेकिन एम एस धोनी को खेलने में बड़ी दिक्कत हो रही थी। धोनी बड़ी मुश्किल से 1-1 रन ले कर बस स्ट्राइक बदल रहे थे। इससे भारत का रन रेट जो चाहिए था प्रति ओवर बढ़ता जा रहा था और 15 ओवर में जा कर वो इतना ज्यादा हो गया कि मैच में वापसी कर पाने की कोई गुंजाईश ही नहीं रह गई थी। अगर धोनी पहली गेंद से ही हिट करते और बाउंड्री लेते रहते तो मैच टीम इंडिया जीत जाती।

अजीत अगरकर बोले कि यह पहली बार नहीं है जब ऐसा हुआ है भारतीय क्रिकेट टीम कॉउंसिल को महेंद्र सिंह धोनी के पिछले मैच भी देखना चाहिए और जहाँ तक शॉर्ट फॉर्मेट वाले मैच जैसे की टी20 की बात है तो उसमे टीम इंडिया मे धोनी की जगह किसी दूसरे खिलाडी के बारे में सोचना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *