एलियन न्यूज़ : आज विज्ञान ने सब कुछ बदल कर रख दिया है जहाँ एक समय धरती के कही रहस्य इंसान के लिए अजूबे थे। वहीं आज विज्ञान ने ना सिर्फ धरती के बल्कि सौर्यमंडल के अन्य ग्रहों के भी कही रहस्य से पर्दा उठा दिया है। यही वजह है की आज दुनिया भर में लोगों की इस विषय के प्रति रुचि बड़ी ही जा रही है। ऐसे में आज मनुष्य सबसे ज्यादा यह जानने के लिए बेचैन हैं की क्या धरती के अलावा भी कोई दूसरा ग्रह है जहाँ जीव पाए जाते हैं। ये शब्द जिसे ‘एलियन’ नाम दिया गया है क्या वाकई इसका कोई अस्तित्व है। एलियन का रहस्य और इनसे जुड़े सभी सवालों के जवाब वैज्ञानिकों के लिए भी बेहद महत्वपूर्ण हैं। इसलिए वे हमेशा इसके बारे में पता लगाने में लगे रहते हैं। हाल ही में वैज्ञानिकों ने एक असामान्य ग्रह की खोज की है जो की अंतरिक्ष में एक विशालकाय सितारे की अजीब ढंग से परिक्रमा लगा रहा है।

 

 

वैज्ञानिकों ने इस नए ग्रह को HD76920b नाम दिया है। वैज्ञानिकों ने बताया है की यह ग्रह हमारे सौर मंडल के बृहस्पति ग्रह से 4 गुणा बड़ा है। साउथर्न कुइन्सलैंड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता ‘रोबर्ट वित्तेनमएर’ ने यह दावा किया है कि यह ग्रह हमारे सौर मंडल के सूर्य से भी बड़ा है और सूर्या से 2 अरब साल ज्यादा पहले आ गया था। इस ग्रह की दूरी पृथ्वी से 600 प्रकाश वर्ष दूर मानी जा रही है। दूरी ज्यादा होने के वजह से ही यह गृह अब तक छुपा रहा है। संभव है यहाँ एलियंस या उनके जैसे कोई जीव हो सकते हैं। परन्तु अब शोधकर्ता इस ग्रह के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी निकलने में जुट गए हैं। इस विशालकाय ग्रह के अकार को जानने के बाद अब वैज्ञानिकों के लिए इस ग्रह के ऊर्जा स्त्रोत और वहां के वातावरण आदि का पता लगाना सबसे जरूर हो गया।

 

वैज्ञानिकों का कहना है कि ज्यादातर ग्रह जो वो खोज निकलते हैं जो सितारों की परिक्रमा काट रहे होते है वे गोलावृत्ति आकार के होते है परंतु इस ग्रह का आकार किसी धूमकेतु की तरह विशाल और विचित्र है। इस ग्रह का तापमान भी एकदम विचित्र ढंग से घटता बढ़ता रहता है। माना जा रहा है की इंसान का जीवन इस ग्रह पर संभव नहीं है परंतु किसी दूसरे प्रकार के जीव (एलियंस) यहाँ पाये जा सकते हैं जिनका आकर संभव ही मनुष्य के आकर से कई अधिक होगा। दुनियाभर में कई बार कई लोग किसी अलग प्रकार के जीव को देखने की पुष्टि कर चुके है और खुद वैज्ञानिक भी इस बात को मानते हैं की एलियंस का वजूद संभव है। फिलहाल वैज्ञानिकों और शोध कर्ताओं की टीम ने इस विषय पर ज्यादा बोलने की जगह इस नए ग्रह की अधिक से अधिक जानकारी निकलने के लिए जुटी हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here